हक़ की बात समाज को बांटने वाली बात भला कैसे हो गई?

Faiyaz Ahmad Fyzie

  फ़ैयाज़ अहमद फ़ैज़ी (Faiyaz Ahmad Fyzie) अशराफ अक्सर पसमांदा आंदोलन पर मुस्लिम समाज को बांटने का आरोप लगाकर पसमांदा आंदोलन को कमज़ोर करने की कोशिश करता है। जिसके चपेट में अक्सर पसमांदा आ भी जाते हैं। जबकि पसमांदा आंदोलन एक वंचित समाज को मुख्यधारा में लाने की चेष्टा, सामाजिक न्याय का संघर्ष, हक़ अधिकार […]

ख़ास तौर से पसमांदा मुसलमान मारे जा रहे हैं – अली अनवर अंसारी

Lenin Maududi Ali Anwar

30 जुलाई 2017 को दिल्ली में भीड़ हिंसा (mob lynching) के खिलाफ़ एक विशाल बाइक रैली में अली अनवर साहेब, MP JDU (राज्य सभा) से DEMOcracy के पत्रकार लेनिन मौदूदी की बातचीत लेनिन मौदूदी: सलाम, नमस्ते, आदाब!! आप जुड़े हुए हैं डेमोक्रेसी से और हमारे साथ इस समय अली अनवर साहब हैं. वो भीड़ हिंसा के […]

साम्प्रदायिक दंगे – भ्रमित मुस्लिम

Kanshi Ram Saheb

  कांशी राम (Kanshi Ram) [नोट: कांशी राम साहेब ने प्रस्तुत सम्पादकीय लेख, दि ओप्रेस्ड इण्डियन (जुलाई, 1979) के लिए लिखा था. राउंड टेबल इंडिया धन्यवाद् करता है अनुवादक विजेंद्र सिंह विक्रम जी का जिन्होंने प्रस्तुत लेख को अंग्रेजी से हिंदी में अनुवाद किया; और ए.आर.अकेला जी का जिन्होंने साहेब कांशी राम जी के सम्पादकीय लेखों को किताब की […]