सुन री सखी मेरी प्यारी सखी!

Payal Srivastava

पायल श्रीवास्तव (Payal Srivastava) …तभी सखी को एहसास होता है लडकियाँ लड़कों से कम थोड़े न हैं अतएव सखी ने अपनी ही योनि को हिंदी भाषा के तमाम तद्भव तत्सम समामनार्थी शब्दों का जामा पहनाकर और विभिन्न उपमाओं से सुसज्जित कर के एक के बाद एक वाक्यों में प्रयोग करते हुए अपनी प्यारी सखी को […]