मैं एक दलित थी

विकास कुमार (Vikash Kumar) (हाथरस प्रकरण को याद करते हुए) मैं एक दलित थीइसलिए वर्दी वाले ‘रक्षकों’ नेएक अँधेरी रात में मुझे जलाकर गुनाहगारों इन्साफ परोस कर दियाअगर दलित न होती तो मैं जिंदा होती मेरे भी सपनों की परवाज़ आकाश छूती लेकिन मैं एक दलित थीइसलिए पूरा बरस बीत गया इन्साफ को मेरी राख […]