जिसका मुद्दा उसकी लड़ाई, जिसकी लड़ाई उसकी अगुवाई

लेनिन मौदूदी (Lenin Maududi) जामिया से मैंने समाजशास्त्र में अपना स्नातक किया है. यहाँ कई विचारकों को पढ़ने का मौका मिला पर इन विचारकों में बाबा साहब अम्बेडकर हमारे सिलेबस (syllabus) में शामिल नहीं थे. उस वक़्त मुझे ये बात समझ में नहीं आई कि ऐसा क्यों है कि बाबा साहब आंबेडकर जैसे विचारक को, […]

उच्च शिक्षा में वैकल्पिक विमर्श के मायने

Deepak Kumar

  दीपक कुमार (Deepak Kumar) वर्तमान समय में जिस तरीके से प्रगतिशील विमर्श पर हमले किये जा रहे है, वह हमारे शैक्षणिक जगत में एक संवाद की संभावना को खत्म करने की कोशिश को प्रदर्शित करता है। वैसे तो हमेशा से ही शैक्षणिक जगत में एक खास तरीके की शिक्षा प्रद्धति का वर्चस्व रहा है, […]

बुद्धि, बुद्धिजीवियों का अपमान भारत की परंपरा रही है

संजय जोठे (Sanjay Jothe) बुद्धिजीवी किसी “एक समुदाय से” जरुर हो सकता है लेकिन किसी “एक समुदाय का” नहीं होता. भारत जैसे असभ्य समाज में बुद्धि और बुद्धिजीवियों का अपमान करना और उन्हें सताना एक लंबी परम्परा है. यह बेशर्म परम्परा एक अखंड जोत की तरह जलती आई है, इसके धुवें और जहर ने देश […]