जूपाका सुभद्रा (Joopaka Subadra)

 

जूपाका सुभद्रा से बातचीत का यह (पहला) भाग भारत नास्तिका समाजम और साइंटिफिक स्टूडेंट्स फेडरेशन द्वारा आयोजित एक बातचीत में उन्होंने रखा था.

 

आज मैं जिस विषय पर बात करने जा रही हूँ, वह है पितृसत्तानारीवाद और बहुजन महिलाएँ‘! नारीवादियों के अनुसारनारीवादमहिलाओं और पुरुषों के बीचसमानता को लेकर है, और, समानता के लिए है. वे कहती हैंसभी महिलाएं समान हैंऔर यह कि हमारे बीच कोई मतभेद नहीं हैंहमारे बीच कोई दीवारें नहीं हैं. हम सभी पितृसत्ता का सामना करते हैं. और यह कि पितृसत्ता सभी के लिए समान है. बहुजन महिलाएंएमबीसी महिलाएंआदिवासी महिलाएंदलित महिलाएं उनकी इस दलील से असहमत हैं. क्योंकि उनकी समस्याएं समान नहीं हैं. इन जातियों और जनजातियों में पितृसत्ता एक जैसी नहीं है. ये अलग अलग प्रकार की होती है. उनकी पितृसत्ता हमसे अलग है. वे श्रम के बाहर मौजूद हैंहम श्रम के अंदर रहते हैं.

 

अगर स्त्री-पुरुष समानता की बात करेंतो जाति के सर्वनाश के बिना यह कैसे संभव हो सकता हैस्त्री-पुरुष समानताअन्य दर्जेबंदियाँ(हाइरार्की) तभी ख़त्म होंगी जब जाति का विनाश हो. लेकिन अगर आप केवल पुरुषों और महिलाओं के बीच समानता के बारे में बात कर रहे हैंतो सवाल उठता है: आप किन पुरुषों और महिलाओं के बीच समानता की बात कर रहे हैंहम जो समान रिश्तों में हैंश्रम की शक्ति के रूप में (दलितआदिवासीएमबीसी महिलाएं) श्रमिक महिलाएं हैंपसीने बहाने वाली महिलाएं हैं.

 

इन श्रमिक महिलाओं के मुद्दों को नारीवादियों के साहित्य में कभी नहीं देखा जाता हैउनके कार्यक्रमों में कभी नहीं देखा जाता है. लेकिन वे कहते हैं कि सभी महिलाएं समान हैं. लेकिन ये किसकी समस्याएँ हैं, और मुद्दे हैं, जो इन नारीवादियों का एजेंडा बन जाते हैंहमारे मैला ढोने की समस्यास्वच्छता महिला कार्यकर्ताहमारी जोगिनी महिलाओं की समस्याएंहमारी शिक्षा की कमीबेरोजगारी की समस्याएँहमारे लिए गरिमा के इनकार की समस्याएं? लेकिन हमारी समस्याओं को उनके लेखन या साहित्य या कार्यक्रमों में जगह नहीं मिलती है.

 

लेकिन फिरवे कहती हैं कि सभी महिलाएं एक हैं. हाल ही मेंविनोदिनी मधुसु* ने एक बहुत अच्छा अवलोकन किया: जाति दर्जेबंदी(हाइरार्की) मेंमहिलाएं कौन सी पायदान पर हैंब्राह्मण महिलाएँ ब्राह्मण पायदान पर हैं. और क्षत्रिय और वैश्य और शूद्र अपने खेमे में हैं..और दलितवे तो बिलकुल नीचे हैंपाताल में. तो इस सामाजिक क्रम में ये सभी महिलाएँ किस पायदान पर हैं?

 

उधरवे महिलाएं जिनके पेट बिना दहलीज पार किए ही भर जाते हैं. लेकिन इधर हमारी महिलाएं श्रम में लगी हुई हैं. उधरउनके लिएयौन स्वतंत्रतापारिवारिक सम्मान (वे कैसे प्रासंगिक हैं) .. वे कहते हैंपरिवार! परिवार मेंउनकी पितृसत्ता उन्हें जायदाद की रक्षा, वंश को बढ़ाने और बच्चों को जन्म देने जैसे कर्तव्यों का निर्वाह करने को कहती है.

 

हमारे यहाँमज़दूर जातियों में कहाँ है जायदादहमारी जातियों में महिलाएं न केवल बच्चे पैदा करती हैंबल्कि वे सामाजिक उत्पादन में भी लगी रहती हैं. वे सामाजिक उत्पादन में कार्यबल का आधा हिस्सा हैं. उनका लिंग के प्रति दृष्टिकोणउनका जाति का दृष्टिकोण अलग है.

 

सवर्ण महिलाएं मुक्त हो जाएँगी अगर वे खुद को पितृसत्ता से मुक्त करती हैं. यदि वे अपने पुरुषों के समान अवसर प्राप्त कर लेती हैं तो वह स्वतंत्र हो जाएँगी.

 

लेकिन हमारी महिलाओं की समस्याओं को देखो! उनके यहाँ जाति की समस्या हैजाति-आधारित लूट हैश्रम की समस्या है .. वे तो गुलामों की गुलाम हैं. हमारे आदमी खुद गुलाम हैंहम गुलाम हैं. परन्तु आपआप अपने पुरुषों के लिए गुलामी कर रहे हैं. लेकिन हम आपके पुरुषों के लिएआप महिलाओं के लिएअन्य सभी पुरुषों के लिए (जो खुद गुलाम हैं) गुलाम हैं.

 

राष्ट्रवादी आंदोलन मेंआपकी समस्याओं का समाधान किया गया था. यह समाज पुरुषों का है. कौन से पुरुषवे पुरुष जिनके हाथ में सत्ता हैआधिपत्य (hegemony) है. इसका मतलब है कि जो लोग संरचनाओं पर अपनी ताक़त का इस्तेमाल करते हैंवह है पितृसत्ता! पितृसत्ता सवर्णों में पैदा हुई है… और वो सारी की सारी व्यवस्थाओं पर राज करती है… दलित पितृसत्ता‘ केवल अपने अपने घरों तक सीमित है.

 

यह मेरी जाति के कारण है कि मैं एक मैला ढोने वाली महिला बन गईयह मेरी जाति के कारण है कि मुझे शिक्षा से वंचित किया गयायह मेरी जाति के कारण है कि मैं बेरोजगार हूंयह मेरी जाति के कारण है कि मुझे गरिमा से वंचित रखा गया है. हमें हमारा सम्मान दें. मैं पहले जाति को हटाना चाहती हूं. मेरे सिर पर जाति का भारी बोझ है. उसके बाद ही जेंडर की बारी आती है.

 

पितृसत्ता वह है जो संरचनाओंसंस्थानों को अपने कब्ज़े में लेती है और उन पर शक्ति और अधिकार स्थापित करती है. लेकिन हमारी जातियों के पुरुष केवल अपने घरों में ही सत्ता का उपयोग करते हैंसंस्थानोंसंरचनाओं पर नहीं… नारीवादी उसे भी पितृसत्ता कहते हैं. और संरचनाओं पर शक्ति का इस्तेमाल करना भी पितृसत्ता है. घरों पर सत्ता और संरचनाओं पर सत्ता: वे लोग दोनों को ही पितृसत्ता कह रहे हैं.

 

यूरोपअमेरिका में श्वेत महिलाओं की इस विचारधारा को वामपंथी ब्राह्मण महिलाएं भारत में लेकर आईं हैं. अपने घरों में घटने वाली वाली बुराइयों को देखते हुएवहां पितृसत्ता को घरेलू हिंसा कहते हैं. लेकिन हमारी महिलाओं पर सामाजिक हिंसा हैहमारी महिलाओं पर जातिगत हिंसा है. बहुजन महिलाओं परदलित महिलाओं पर.

 

उन्होंने हमारे मुद्दोंसमस्याओं को हल करने के लिए कोई एजेंडा तैयार नहीं किया है. सवर्ण नारीवादी 1960-70 के दशक से बात कर रहे हैं… वे घरेलू हिंसा की बात कर रहे हैं. घरेलू हिंसायौन स्वतंत्रता… 70 के दशक से वे बात कर रहे हैं. वे घरेलू हिंसा से आगे बढ़ते ही नहीं. (इधर) हम अभी भी भोजन पाने की जद्दोजेहद की स्टेज (चरण) में हैं. हमें अभी भी यह सोचने की ज़रूरत पड़ती है कि आजकल शाम को कैसे जीने का प्रबंध किया जाए.. क्या हमें कल काम मिलेगा या नहीं… हम अभी भी इस स्तर पर हैंहम उनके उस उच्च वाले लेवल/चरण तक नहीं पहुँचे हैं.

 

आपने जो राह हमारे लिए बिछाई या बनाईआपकी व्याख्याएंआपके सुझाए रास्ते जो ये सब आपके अनुभवों के ज्ञान से आया है और आप चाहते हो कि हम इनका अनुसरण करें. हमारे संघर्षहमारे आख्यानहमारे अनुभवहमारे इतिहास उस फ्रेमआपके फ्रेम में फिट नहीं होते हैं. आपको यह समझना चाहिए. लेकिन जब आप इसे अपने स्वार्थ के लिए समझते हैं, और आप अभी भी कह रहे हैं कि सभी महिलाएं समान हैं.

 

क्या सभी पुरुष समान हैंसभी महिलाओं के लिए समान हैंअब भीवे इस नारे के साथ आगे बढ़ते हैं कि सभी महिलाएं समान हैं. इस जातिगत समाज मेंसभी की अपनी समस्याएं हैं. उन समस्याओं पर चर्चा नहीं हुई हैउन समस्याओं से निपटने के लिए एक एजेंडा विकसित करने पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है. नारीवादी भी उनके बारे में बात तक नहीं कर रही हैं. वे जोगिनी मुद्दे के बारे में बात नहीं कर रहे हैंवे भूख की समस्या के बारे में बात नहीं कर रहे हैं जिन्हें ये ये जातियों लगातार सामना कर रही हैं.

 

वे घरेलू काम के बारे में बात कर रहे हैं. वे घरों में कचरे के निपटान (disposal) के बारे में बात कर रहे हैं. ठीक हैहमें सभी प्रकार के कार्यों भाव देना चाहिए. लेकिनवे उन लोगों के बारे में बात क्यों नहीं कर रहे हैं जो घरों के बाहर सड़कें साफ करते हैंजो मैला साफ़ करते हैं?

~~~

जूपाका सुभद्रा एक कविलेखकआलोचक और तेलुगु साहित्य और जाति-विरोधी संघर्षों में संघर्षरत एक महत्वपूर्ण महिला हैं. 

अंग्रेजी भाषा से हिंदी में अनुवाद गुरिंदर आज़ाद द्वारा 

मूल तेलुगु से अंग्रेजी में अनुवाद कुफिर द्वारा  

अंग्रेजी भाषा में आप इस बातचीत को Savari (www.dalitweb.org) पर पढ़ सकते हैं. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *